Monthly Archives: January 2016

Slide59

Advertisements

DSCF3522

IMG_20151115_113929Profile

एक तरफ हम चीन को गाली गाली देते है.. दूसरी तरफ हम लघु उद्ध्योग को बढ़ावा देने बालो योजना पहले मुद्रा और अब ‪#‎startupIndia‬ का कांग्रेस के कहने पर विरोध करने लगते है, राहुल गांधी कहते हैं जल्द ही असफल हो जायेगी योजना तो दिग्विजय सिंह कहते है इंस्पेक्शन नहीं होगी तो देश के युवा उद्यमी AK-47 असेंबल करेंगे …. फिर घंटा तुम चीन को पछाडोगे….
जानिये क्या है… उद्ध्योगो के लिए ‘स्टार्ट अप इंडिया’

1 – तीन साल के लिये Profit को Income Tax से मुक्ति दी जाएगी।
.
2 – तीन साल तक कोई Inspection नहीं होगा।

3- वैश्विक स्तर पर पहचाने बनाने लायक स्टार्ट अप्स को सरकार 10 करोड़ रुपये की मदद देगी
.
4- महिला उद्यमियों की संख्या भी बढ़ रही है, सरकार इस पर भी योजना बनाने का प्रयास करेगी।
.
5- इसी तरह वित्तीय संसाधनों की वृद्धि के लिये कैपिटल गैन टैक्स की छूट देना चाहते हैं।
.
6- स्टार्ट अप्स के लिये अगले चार वर्षों में हर साल 500 करोड़ रुपये के साथ आपके लिये क्रेडिट गारंटी स्कीम लाएंगे।
.
7- वित्तीय आवश्यकताओं की पूर्ति के लिये 10 हजार करोड़ डेडिकेटेड फंड दिया जाएगा।
.
8- स्टार्ट अप की फीस में 80 % कम होगी। सरकारी खरीद में स्टार्ट अप को छूट मिलेगी।
.
9- हम जीरो डिफेक्ट और जीरो इफेक्ट पर काम करेंगे
.
10- 1 अप्रैल से स्टार्ट अप का फॉर्म मोबाइल एप्लीकेशन पर उपलब्ध होगा। साथ ही आईपीआर स्कीम भी लॉन्च की जाएगी
.
11- इस क्षेत्र में काम करने वाले वकील बहुत कम हैं और जो हैं वो महंगे हैं। भारत के सभी प्रमुख शहरों में कॉमर्स चैंबर होना चाहिये, हम इसके लिये निशुल्क व्यवस्था हो सके।
.
12- हमें आईपी और वायपी (यूथ प्रॉपर्टी) को मिलाना है।
.
13- ‘अटल इनोवेशन मिशन’ की शुरुआत होगी
.
14- ‘मेक इन इंडिया’ और ‘मेक फॉ़र इंडिया’ भी है
.
15- यदि देश के लिये कुछ करने का सपना भी हम लेकर चलें तो हम बहुत कुछ कर सकते हैं। भारत के पास करोड़ों समस्याएं हैं, लेकिन मुझे भरोसा है कि समस्याओं से दस गुना दिमाग हमारे पास है। हर स्टार्टअप के पीछे किसी समस्या के समाधार का इरादा होना चाहिये। किसी की जिंदगी में आने वाले बदलाव से संतोष मिलता है।
.
16- साइबर सिक्योरिटी आज दुनिया की सबसे बड़ी चिंता है। क्या भारत इस क्षेत्र में काम कर सकता है?
.
17- हैंडीक्राफ्ट उत्पादों के लिये भी एप्लीकेशन तैयार करना चाहिये, ताकि इससे निर्माण करने वाले से सीधे कनेक्टिविटी मिलेगी।
.
18- युवाओं को नौकरी ढूंढने की मानसिकता से बाहर निकलना होगा और नौकरी देने की मानसिकता को अपनाना होगा।
.
19- आईटी के दायरे से बाहर निकल कर भी इनोवेशन करना होगा। भारत जैसा ‘जुगाड़’ दुनिया में कहीं नहीं मिलेगा। लेकिन जुगाड़ से सिर्फ अपनी समस्या का समाधान ढूंढा जाता है, सबके लिये समाधान पर काम करना होगा।
.
20- बड़ी मात्रा में अनाज, फल-फूल, सब्जियां खराब हो जाती हैं, हमें ऐसी टेक्नोलॉजी पर ध्यान देना होगा जिससे इनका संरक्षण किया जा सकता है। यदि ऐसा हुआ तो दुनियाभर में करोड़ों लोगों का पेट भर जाएगा।
.
21- किसी के लिये जो दर्द होता है, जो हमें दुआ देने की ताकत दे या ना दे हमारे भीतर ऐसी अवस्था पैदा करती है जो करोड़ों लोगों की समस्या हल कर देता है, वही स्टार्ट अप की नींव बनता है।
.
22- स्टार्ट अप करने वालों की सफलता जोखिम लेने की क्षमता और कुछ नया साहस दिखाने के इरादे से मिलता है। विचारों के साथ जुट जाना जरूरी होता है, ऐसा करने वाले ही एक दिन कमाल करते हैं।
.
23- इनोवेशन पर स्टार्टअप को राष्ट्रीय पुरस्कार दिया जाएगा। 35 नए इन्क्यूबेशन सेंटर खोले जाएंगे।
.
24- बच्चों में इनोवेशन बढ़ाने के लिए भी कार्यक्रम शुरू होगा। 5 लाख स्कूलों के 10 लाख बच्चों की पहचान की जाएगी जो इनोवेशन को आगे बढ़ा सकें।
.
25- चार साल तक 500 करोड़ रुपये प्रतिवर्ष का क्रेडिट गारंटी फंड बनाया जाएगा। अपनी प्राॅपर्टी को बेचकर स्टार्टअप शुरू करने पर कैपिटल गेन टैक्स की छूट दी जाएगी। तीन साल तक स्टार्टअप्स को इनकम टैक्स की छूट दी जाएगी। शेयर मार्केट वैल्यू से ऊपर के इन्वेस्टमेंट पर टैक्स में छूट दी जाएगी।
.
26- देश के प्रमुख शहरों में पेटेंट के लिए कंसलटेशन की निःशुल्क व्यवस्था की जाएगी। पेटेंट एप्लीकेशन फीस में 80 फीसदी की छूट। सार्वजनिक और सरकारी खरीद में स्टार्टअप को छूट मिलेगी। स्टार्टअप के लिए फास्ट एक्जिट पाॅलिसी बनाई जाएगी। 10 हजार करोड़ रुपये का फंड बनाया जाएगा। इसमें हर साल 2500 करोड़ रुपये का फंड स्टार्टअप्स को दिए जाएंगे।
.
27- सेल्फ सर्टिफिकेशन आधारित कंप्लायंस होगा। तीन साल तक स्टार्टअप का कोई इंस्पेक्शन नहीं होगा। स्टार्टअप इंडिया हब में सिंगल प्वाइंट आॅफ काॅन्टैक्ट बनाया जाएगा। हैंडहाॅल्डिंग की व्यवस्था की जाएगी। स्टार्टअप के लिए आॅनलाइन पोर्टल और मोबाइल ऐप के जरिए छोटा ई-फाॅर्म पेश किया जाएगा। इसमें रजिस्ट्रेशन की व्यवस्था होगी। इंटलेक्चुअल प्राॅपर्टी राइट को प्रोटेक्शन दिया जाएगा। इसके लिए रजिस्ट्रेशन के लिए आईपीआर लाने जा रहे हैं।

कौरव-पांडव-संगर-तांडव द्वापर-कालीं होय अती
तसे मराठे गिलचे साचे कलींत लढले पानपती ॥धृ०॥

जासुद आला कथी पुण्याला-“शिंदा दत्ताजी पडला;
कुतुबशहानें शिर चरणानें उडवुनि तो अपमानियला ।”

भारतवीरा वृत्त ऐकतां कोप अनावर येत महा
रागें भाऊ बोले, “जाऊं हिंदुस्थाना, नीट पहा.

‘काळा ‘शीं घनयुद्ध करूं मग अबदल्लीची काय कथा?
दत्ताजीचा सूड न घेतां जन्म आमुचा खरा वृथा. ”

बोले नाना, “ युक्ति नाना करुनी यवना ठार करा;
शिंद्यांचा अपमान नसे हा; असे मराठयां बोला खरा.”

उदगीरचा धीर निघाला; घाला हिंदुस्थानाला;
जमाव झाला; तुंबळ भरला सेनासागर त्या काळा.

तीन लक्ष दल भय कराया यवनाधीशा चालतसे;
वृद्ध बाल ते केवळ उरले तुरुण निघाले वीररसें.

होळकराचे भाले साचे, जनकोजीचे वीर गडी,
गायकवाडी वीर अघाडी एकावरती एक कडी.

समशेराची समशेर न ती म्यानामध्यें धीर धरी;
महादजीची बिजली साची बिजलीवरती ताण करी.

निघे भोसले पवार चाले बुंदेल्यांची त्वरा खरी;
धीर गारदी न करी गरदी नीटनेटकी चाल करी.

मेहेंदळे अति जळे अंतरीं विंचुरकरही त्याचपरी;
नारोशंकर, सखाराम हरि, सूड घ्यावया असी धरी,

अन्य वीर ते किती निघाले गणना त्यांनी कशी करा ?
जितका हिंदु तितका जाई धीर उरेना जरा नरां.

भाऊ सेनापती चालती विश्वासातें घेति सवें.
सूड ! सूड !! मनिं सूड दिसे त्या सूडासाठीं जाति जवें.

वीररसाची दीप्ती साची वीरमुखांवर तदा दिसे;
या राष्ट्राचे स्वातंत्र्याचे द्दढस्तंभ ते निघति असे.

वानर राक्षस पूर्वी लढले जसे सुवेलाद्रीवरती
तसे मराठे गिलचे साचे कलींत लढले पानपतीं ॥कौ.१॥
– राम गणेश गडकरी

7 years of bad luck for those who don’t like and type amen